हिंदी संपादकीय और विचार

कल से हमने नई शुरूआत की थी- विभिन्न हिंदी अख़बारों, पीआइबी और अन्य स्रोतों के संपादकीय, विचार एवं अन्य आवश्यक पठनीय सामग्री के लिंक आपको उपलब्ध कराने की. उम्मीद है कल के लिंक आपने खोलेंगे होंगे और अपने मित्रों को भी इस बारे में बताया होगा.
आज के लिंक-

1. विदेशी ऋण लेने में कंपनियों की भूमिका

लिंक- http://hindi.business-standard.com/storypage.php?autono=117348

(बिज़नेस स्टैण्डर्ड के इस लिंक पर आप जानेंगे कि क्यों निर्यातक और कारोबारयोग्य कंपनियां विदेशी मुद्रा ऋण पर निर्भर नहीं हैं जबकि गैर कारोबारयोग्य कंपनियां एफसीबी का प्रयोग इतना अधिक कर रही हैं, आखिर यह पूरी समस्या क्या है?)

2. ठोस कचरा प्रबंधन के नियम 16 साल बाद संशोधित किए गए; नियम अब शहरी और औद्योगिक क्षेत्रों पर भी लागू

लिंक- http://pib.nic.in/newsite/hindirelease.aspx

(पर्यावरण मंत्रालय ने 16 साल बाद ठोस कचरा प्रबंधन के नियमों को संशोधि‍त किया है, इसकी मुख्य विशेषताएं आप 5 अप्रैल को पीआइबी पर पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्रालय द्वारा जारी विज्ञप्ति से जान सकते हैं)

3. क्या हैं पनामा पेपर्स?

लिंक- http://rajasthanpatrika.patrika.com/story/india/what-are-the-panama-papers-2228472.html

(पनामा पेपर्स ने पूरे विश्व को हिलाकर रख दिया है, पनामा पेपर्स का पैमाना क्या है? इसकी मूलभूत जानकारी आप इस लिंक से प्राप्त कर सकते हैं.)